भारतेन्दु हरिश्चन्द्र का जीवन परिचय | Bhartendu Harishchandra Ka Jeevan Parichay

bhartendu harishchandra ka jeevan parichay

इस आर्टिकल में हम भारतेन्दु हरिश्चन्द्र के सम्पुर्ण जीवनी को एकदम विस्तारपूर्वक से देखेंगे, भारतेंदु हरिश्चंद्र का जीवन परिचय कक्षा 11 और कक्षा 12 में पढ़ रहे छात्रों के लिये काफी इम्पोर्टेन्ट होता है। क्योकी इनका जीवन परिचय बोर्ड परीक्षा के हिन्दी के प्रश्न पत्र में लिखने को जरुर आता है। ऐसे में यदि आप कक्षा 9 से 12 तक के किसी भी क्लास के स्टूडेंट्स है, तो इस जीवनी को आप जरुर से पढ़ें एवं याद करे, क्योकी इससे आपको परीक्षा में काफी मदद मिल सकती है और आप अपने हिन्दी के विषय में अच्छे अंक भी प्राप्त कर सकते हैं।

इस जीवनी में हम भारतेंदु हरिश्चंद्र के जीवन से सम्बंधित उन सभी महत्वपूर्ण प्रश्नों को समझेंगे, जो बोर्ड की परीक्षाओं में पुछे जा सकते है जैसे की- भारतेंदु हरिश्चंद्र का जन्म कब और कहां हुआ था, भारतेंदु हरिश्चंद्र के माता-पिता का नाम क्या था, भारतेंदु हरिश्चंद्र की पत्नी का क्या नाम था, भारतेंदु हरिश्चंद्र की भाषा शैली क्या है, भारतेंदु हरिश्चंद्र का साहित्यिक परिचय, भारतेंदु हरिश्चंद्र को भारतेंदु की उपाधि किसने दी थी, भारतेन्दु हरिश्चन्द्र का साहित्य में स्थान, भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की कृतियाँ और भारतीय हरिश्चंद्र की मृत्यु कब हुई थी आदि। इन सभी प्रश्नों के उत्तर आपको यहा पर एकदम विस्तार से मिल जायेंगे, जिसको पढ़ कर आप अपने हिन्दी विषय की तैयारी कर सकते हैं। तो, अगर आप वास्तव में bhartendu harishchandra ka jivan parichay एकदम अच्छे से समझना चाहते हैं तो, इस लेख को पुरा अन्त तक जरुर पढ़े।

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की जीवनी (Bhartendu Harishchandra Biography)

नाम भारतेन्दु हरिश्चन्द्र
मूल नाम हरिश्चन्द्र
उपाधि भारतेन्दु
उपनाम रासा
जन्म तिथि 9 सितम्‍बर, 1850
जन्म स्थान वाराणसी, उत्तर प्रदेश (भारत)
मृत्यु तिथि 6 जनवरी, 1885
मृत्यु स्थान वाराणसी, उत्तर प्रदेश (भारत)
आयु (मृत्यु के समय) 34 वर्ष
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय लेखक, कवि, उपन्यासकार, नाटककार
अवधि/काल आधुनिक काल
विषय आधुनिक हिन्दी साहित्य
भाषा हिन्दी, ब्रज भाषा एवं खड़ीबोली
विधा नाटक, काव्यकृतियाँ, अनुवाद, निबन्ध संग्रह
रचनाएँ 'प्रेम-तरंग' , 'प्रेम माधुरी' , 'प्रेममालिका' , 'भारत दुर्दशा', 'अंधेर नगरी'
पिता का नाम गोपाल चन्द्र
माता का नाम पार्वती देवी
पत्नी का नाम मन्नो देवी

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र का जीवन परिचय (Bhartendu Harishchandra Ka Jeevan Parichay)

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र खड़ी बोली हिन्दी गद्य के जनक माने जाते हैं। इन्होंने हिन्दी गद्य-साहित्य को नवचेतना और नयी दिशा प्रदान की। भारतेन्दु का जन्म काशी के एक सम्पन्न और प्रसिद्ध वैश्य परिवार में सन् 1850 ई० में हुआ था। इनके पिता गोपालचन्द्र, काशी के सुप्रसिद्ध सेठ थे जो 'गिरिधरदास' उपनाम से ब्रज भाषा में कविता किया करते थे। भारतेन्दु जी में काव्य-प्रतिभा बचपन से ही विद्यमान थी। इन्होंने पाँच वर्ष की आयु में निम्नलिखित दोहा रचकर अपने पिता का सुनाया और उनसे सुकवि होने का आशीर्वाद प्राप्त किया।

लै ब्योढ़ा ठाढ़े भये, श्री अनिरुद्ध सुजान ।
बाणासुर की सैन को, हनन लगे भगवान् ।।

पाँच वर्ष की आयु में माता के वात्सल्य से तथा दस वर्ष की आयु में पिता के प्यार से वंचित होने वाले भारतेन्दु की आरम्भिक शिक्षा घर पर ही हुई। इन्होंने घर पर ही हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी तथा बंगला आदि भाषाओं का अध्ययन किया। 13 वर्ष की अल्पायु में मन्नो देवी नामक युवती के साथ इनका विवाह हो गया। भारतेन्दु जी यात्रा के बड़े शौकीन थे। इन्हें जब भी समय मिलता, ये यात्रा के लिए निकल जाते थे। ये बड़े उदार और दानी पुरुष थे। अपनी उदारता और दानशीलता के कारण इनकी आर्थिक दशा शोचनीय हो गयी और ये ऋणग्रस्त हो गये। परिणामस्वरूप श्रेष्ठि-परिवार में उत्पन्न हुआ यह महान् साहित्यकार ऋणग्रस्त होने के कारण, क्षयरोग से पीड़ित हो 35 वर्ष की अल्पायु में ही सन् 1885 ई० में दिवंगत हो गया।

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र का साहित्यिक योगदान

प्राचीनता के पोषक और नवीनता के उन्नायक, भारतेन्दु हरिश्चन्द्र हिन्दी खड़ी बोली के ऐसे साहित्यकार हुए हैं, जिन्होंने साहित्य के विभिन्न अंगों पर साहित्य-रचना करके हिन्दी साहित्य को समृद्ध बनाया। इन्होंने कवि, नाटककार, इतिहासकार, निबन्धकार, कहानीकार और सम्पादक के रूप में हिन्दी-साहित्य की महान् सेवा की है। नाटकों के क्षेत्र में इनकी देन सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है। भारतेन्दु जी ने हिन्दी भाषा के प्रचार के लिए आन्दोलन चलाया। 

इस आन्दोलन को गति देने के लिए इन्होंने नयी पत्र-पत्रिकाओं का प्रकाशन एवं सम्पादन किया, साहित्यिक संस्थाओं की स्थापना की और हिन्दी लेखकों को साहित्य-सृजन के लिए प्रेरित किया। इन्होंने साहित्य-सेवी संस्थाओं तथा साहित्यकारों को धन दिया और देश में अनेक शिक्षा संस्थाओं, पुस्तकालयों एवं नाट्यशालाओं की स्थापना की। भारतेन्दु जी ने साहित्य के विभिन्न अंगों अर्थात् विविध विधाओं की पूर्ति की। इन्होंने हिन्दी गद्य के क्षेत्र में नवयुग का सूत्रपात किया और नाटक, निबन्ध, कहानी, इतिहास आदि विषयों पर साहित्य-रचना की। 

भारतेन्दु जी ने अपने निबन्धों में तत्कालीन सामाजिक, साहित्यिक और राजनीतिक परिस्थितियों का चित्रण किया। इन्होंने इतिहास, पुराण, धर्म, भाषा आदि के अतिरिक्त संगीत आदि विषयों पर निबन्ध-रचना की तथा सामाजिक रूढ़ियों पर व्यंग्य भी किये। काव्य के क्षेत्र में भारतेन्दु जी ने कविता को राष्ट्रीयता की ओर मोड़ा। इनके काव्य की मुख्य भाषा ब्रज भाषा और गद्य की प्रमुख भाषा खड़ी बोली थी। भारतेन्दु जी ने एक यशस्वी सम्पादक के रूप में 'कवि वचन सुधा' (1868 ई०) और 'हरिश्चन्द्र मैगजीन' (1873 ई०) पत्रिकाओं का सम्पादन किया, जिससे हिन्दी गद्य के विकास का मार्ग प्रशस्त हुआ। आठ अंकों के उपरान्त 'हरिश्चन्द्र मैगजीन' का नाम बदलकर 'हरिश्चन्द्र चन्द्रिका' हो गया।

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की कृतियाँ

भारतेन्दु जी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। इन्होंने नाटक, काव्य, निबन्ध, उपन्यास, कहानी आदि साहित्य की तत्कालीन प्रचलित सभी विधाओं में महत्त्वपूर्ण रचनाएँ की, किन्तु नाटकों के क्षेत्र में इनकी देन सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है।

नाटक -- भारतेन्दु जन मौलिक और अनूदित दोनों प्रकार के नाटकों की रचना की है, जिनकी कुल संख्या 17 है - (1) मौलिक नाटक -- सत्य हरिश्चन्द्र, श्री चन्द्रावली, नीलदेवी, भारत दुर्दशा, वैदिकी हिंसा हिंसा न भवति, सती प्रताप, अँधेर नगरी, विषस्य विषमौषधम् तथा प्रेम-जोगिनी। (2) अनूदित नाटक-मुद्राराक्षस, रत्नावली नाटिका, कर्पूरमंजरी, विद्यासुन्दर, पाखण्ड विडम्बन, धनंजय विजय, भारत जननी तथा दुर्लभ बन्धु।

निबन्ध-संग्रह -- सुलोचना, मदालसा, लीलावती, दिल्ली दरबार दर्पण एवं परिहास-वंचका
इतिहास -- अग्रवालों की उत्पत्ति , महाराष्ट्र देश का इतिहास तथा कश्मीर कुसुम।
कविता-संग्रह -- भक्त सर्वस्व, प्रेम सरोवर, प्रेम तरंग, सतसई सिंगार, प्रेम प्रलाप, प्रेम फुलवारी, भारत-वीणा आदि।
यात्रा वृत्तान्त -- सरयू पार की यात्रा, लखनऊ की यात्रा आदि।
जीवनी -- सूरदास, जयदेव, महात्मा मुहम्मद आदि।

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र का साहित्य में स्थान

नि: सन्देह हिन्दी-साहित्याकाश के प्रभामण्डित इन्दु भारतेन्दु जी हिन्दी गद्य-साहित्य के जन्मदाता थे। आज भी साहित्य का यह इन्दु अपनी रचना-सम्पदा के माध्यम से हिन्दी-साहित्य गगन से अमृत-वृष्टि कर रहा है।

भारतेंदु हरिश्चंद्र का जीवन परिचय pdf

यहा पर भारतेंदु हरिश्चंद्र की जीवनी pdf के रुप में भी शेयर किया गया है, जिसे आप सभी छात्र बहुत ही असानी से डाउनलोड कर सकते हैं। और इस पीडीएफ की मदद से आप कभी भी अपने समयानुसार भारतेंदु हरिश्चंद्र की सम्पुर्ण जीवनी का अध्ययन कर सकते हैं। भारतेंदु हरिश्चंद्र का जीवन परिचय pdf download करने के लिये नीचे दिये गए बटन पर क्लिक करे और पीडीएफ फ़ाईल को डाउनलोड करे।

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र के जीवन परिचय को वीडियो के माध्यम से समझें


FAQ: भारतेन्दु हरिश्चन्द्र के प्रश्न उत्तर

प्रश्न -- भारतेंदु हरिश्चंद्र कौन थे?

उत्तर -- भारतेंदु हरिश्चंद्र जी एक भारतीय कवि, लेखक और नाटककार थे।

प्रश्न -- भारतेंदु हरिश्चंद्र का जन्म कब हुआ था?

उत्तर -- भारतेंदु हरिश्चंद्र का जन्म 9 सितम्‍बर सन् 1850 में हुआ था।

प्रश्न -- भारतेंदु हरिश्चंद्र का जन्म कहां हुआ था?

उत्तर -- भारतेंदु हरिश्चंद्र का जन्म वाराणसी, उत्तर प्रदेश में हुआ था।

प्रश्न -- भारतेंदु हरिश्चंद्र के पिता का क्या नाम था?

उत्तर -- भारतेंदु हरिश्चंद्र के पिता जी का नाम गोपाल चन्द्र था।

प्रश्न -- भारतेंदु जी का विवाह कब और किसके साथ हुआ?

उत्तर -- भारतेंदु जी का 13 वर्ष की अल्पायु में मन्नो देवी नामक युवती के साथ विवाह हुआ। 

प्रश्न -- भारतेंदु हरिश्चंद्र को भारतेंदु की उपाधि किसने दी?

उत्तर -- भारतेंदु हरिश्चंद्र को भारतेंदु की उपाधि काशी के विद्वानों ने 1880 में दी थी।

प्रश्न -- भारतेंदु की रचनाएं कौन कौन सी हैं?

उत्तर -- भारतेंदु हरिश्चंद्र की रचनाएं निम्न है - अंधेर नगरी, प्रेम-तरंग, प्रेम माधुरी, प्रेममालिका।

प्रश्न -- भारतेंदु हरिश्चंद्र की मृत्यु कब और कहाँ हुई?

उत्तर -- भारतेंदु हरिश्चंद्र की मृत्यु 6 जनवरी सन् 1885 में मृत्यु वाराणसी, उत्तर प्रदेश में हुई थी।

निष्कर्ष

यहा पर इस लेख में हमने भारतेंदु हरिश्चंद्र का जीवन परिचय को बिल्कुल अच्छे से समझा। बोर्ड के परीक्षा की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों के लिये यह जीवनी काफी महत्वपुर्ण है, क्योकी बोर्ड परीक्षा के हिन्दी के विषय में "भारतेंदु हरिश्चंद्र का जीवन परिचय एवं रचनाएँ लिखे" ऐसा प्रश्न जरुर से पुछा जा सकता है! ऐसे में यदि आप इस लेख में दिये गए जीवन परिचय को अच्छे से पढ़ कर याद करे रहेंगे, तो आप परीक्षा मे पुछे गये इस प्रकार के प्रश्न को बड़े ही सरलता से पुरा कर सकेंगे।

इसी के साथ हम आशा करते है की, आपको यह जीवनी जरुर पसंद आया होगा और हमे उमीद है की इस लेख की सहायता से आपको, भारतेंदु हरिश्चंद्र का जीवन परिचय कैसे लिखें? एकदम अच्छे से समझ में आ गया होगा। अगर आपके मन में इस लेख से सम्बंधित कोई सवाल है तो, आप नीचे कमेंट कर सकते हैं। और साथ ही इस bhartendu harishchandra ki jivani को आप अपने सहपाठी एवं मित्रों के साथ साझा जरुर करे।

अन्य जीवन परिचय यहां पढ़े :-

0 Response to "भारतेन्दु हरिश्चन्द्र का जीवन परिचय | Bhartendu Harishchandra Ka Jeevan Parichay"

Post a Comment