पूरे विश्व की जनसंख्या कितनी है? vishv ki jansankhya kitni hai


इस आर्टिकल में हम विश्व की जनसंख्या कितनी है इसके बारे में चर्चा करेंगे हम विस्तार से समझेंगे की 2022 में विश्व की कुल जनसंख्या कितनी है। अगर हम देश की बात करे तो आपको पता ही होगा की हमारा भारत विश्व का दुसरा सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला देश है जिसका वर्तमान समय में कुल जनसंख्या 138 करोड़ के पार है। और पहले नंबर पर आता है चीन देश जिसका वर्तमान समय में कुल जनसंख्या लगभग 143 करोड़ है। लेकिन पूरे दुनिया की जनसंख्या कितनी है? ये सवाल काफी लोगो के मन में होता है अगर आप भी उन लोगो मे से एक है तो आप बिल्कुल सही जगह पर है क्योकी यहा हम विस्तार से समझेंगे की 2022 में पूरे विश्व की कुल जनसंख्या कितनी है

विश्व की जनसंख्या कितनी है (vishv ki jansankhya kitni hai)

किसी भी देश की जनसंख्या या मानव संसाधन उसकी सबसे बड़ी पूँजी होती है। जनसंख्या के उपयुक्त आकार और श्रेष्ठ गुणात्मक विशेषताओं के आधार पर ही किसी देश का विकास निर्भर करता है। 11 जुलाई, 1987 को विश्व की कुल जनसंख्या 5 अरब के स्तर को पार कर गयी थी, इसी कारण से संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (UNFPA) के द्वारा 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस (World Population Day) घोषित किया गया था। वर्ष 1999 में संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार विश्व की जनसंख्या 6 अरब थी, अत: UNFPA द्वारा 12 अक्टूबर को 6 अरब जनसंख्या दिवस (Day of Six Billion) के रूप में मनाया गया।

20 वीं सदी में विश्व की जनसंख्या में 4.4 अरब की वृद्धि हुई थी और 1930 में विश्व जनसंख्या बढ़कर दोगुना हो गयी। अर्थात् दो अरब होने में इसे 130 वर्ष लगे, जबकि अगले 30 वर्षों में (1960) ही यह 3 अरब हो गयी। यह केवल 14 वर्षों में (1974 में) 4 अरब हो गयी। इस 4 अरब में एक अरब जोड़ने से 13 वर्ष (1987) लगे। अगले 12 वर्षों में (1999 में) विश्व जनसंख्या 6 अरब की सीमा को पार कर गयी। 31 October 2011 की जनगणना के अनुसार पूरे विश्व की जनसंख्या 700.29 billion (करोड़) थी। और ये जनसंख्या अप्रैल 2019 तक बड़ कर 7.78 बिलियन हो गई।

वर्तमान समय की बात करे तो worldometer के अनुसार 2022 में विश्व की जनसंख्या 7.9 बिलियन है यानी 700.9 करोड़ और ये हर समय बड़ती जा रही है। आपको बता दे की पूरी दुनिया की आबादी को 1 बिलियन तक पहुंचने में 200,000 साल का समय लगा था जबकी 7 बिलियन तक पहुँचने के लिए केवल 200 साल अधिक का समय लगा।


विश्व की जनसंख्या का भविष्य अनुमान 

आपको बता दे की हमारे पूरे दुनिया की जनसंख्या संयुक्त राष्ट्र अमेरिकी जनगणना ब्यूरो के अनुसार 2023 में 8 अरब तक पहुंचने की उम्मीद है। और ये ही जनसंख्या 2037 में 9 बिलियन तक पहुंचने का अनुमान लगाया गया है। और इसी जनसंख्या को 10 बिलियन तक पहुंचने में 2057 तक का समय लग सकता है।

विश्व की जनसंख्या 1 बिलियन से 7 बिलियन तक सन् के साथ 

  • 1 Billion -- 1804
  • 2 Billion -- 1930
  • 3 Billion -- 1960
  • 4 Billion -- 1974
  • 5 Billion -- 1987
  • 6 Billion -- 1999
  • 7 Billion -- 2011

विश्व के दस सर्वाधिक जनसंख्या वाले देश

S.nदेश के नाम जनसंख्या (करोड़ में)भूमि क्षेत्र (किमी²)विश्व की जनसंख्या में
प्रतिशत योगदान
1.चीन143.93 करोड़9,388,21118.5 %
2.भारत138.00 करोड़2,973,19017.7 %
3.सं॰ रा॰ अमेरिका33.10 करोड़9,147,4204.2 %
4.इंडोनेशिया27.35 करोड़1,811,5703.5 %
5.पाकिस्तान22.08 करोड़770,8802.8 %
6.ब्राज़िल21.25 करोड़8,358,1402.7 %
7.नाईजीरिया20.61 करोड़910,7702.6 %
8.बांग्लादेश16.46 करोड़130,1702.1 %
9.रुस14.59 करोड़16,376,8701.9 %
10.मेक्सिको12.89 करोड़1,943,9501.7 %

जनसंख्या वृद्धि के कारण 

किसी भी देश या प्रदेश में जनसंख्या में वृद्धि तब सम्भव होती है जब वहाँ मृत्युदर कम और जन्मदर अधिक होती है। इसको निम्न तरीके से स्पष्ट किया जाता है

(1) जन्म-दर (Birth Rate) --- प्रति हजार व्यक्तियों के पीछे जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या 'जन्मदर' कहलाती है। 2021 में विश्व की औसत जन्मदर 17.873 व्यक्ति प्रति हजार रही है।

(2) मृत्यु-दर (Death Rate) --- किसी क्षेत्र या प्रदेश विशेष में एक वर्ष की अवधि में प्रति हजार जनसंख्या पर मरने वालों की संख्या को 'मृत्युदर' कहते हैं।

(3) वृद्धि दर (Growth Rate) --- एक निश्चित अवधि में जन्मदर और मृत्युदर में जो अन्तर होता है, उसे 'वृद्धि दर' कहते हैं। इसको प्रतिशत में व्यक्त करते हैं। जैसे -- किसी देश में 'जन्मदर' 30 और मृत्युदर 10 है तो वहाँ पर वृद्धि दर 20 व्यक्ति प्रति हजार होगी। यह 2% वार्षिक हुई।

(4) अप्रवास --- जब किसी देश में बाहर से आकर लोग बसने लगते हैं तो उसे 'अप्रवास' कहते हैं जिससे उस स्थान पर जनसंख्या वृद्धि हो जाती है। जैसे -- यदि बांग्लादेश से 5 हजार व्यक्ति भारत में आकर बस जाते हैं तो इसे अप्रवास कहा जायगा।

(5) उत्प्रवास --- अपने देश से बाहर जाकर बसने को 'उत्प्रवास' कहा जाता है। उस प्रदेश में जहाँ से लोग जाते हैं वहाँ जनसंख्या की कमी हो जाती है। जैसे भारत से पाँच हजार व्यक्ति अमेरिका में जाकर बस गये जो उत्प्रवास कहा जायगा।

Conclusion

इस आर्टिकल में हमने विश्व की जनसंख्या कितनी है इसके बारे में विस्तार से समझा। साथ में हमने विश्व के दस सर्वाधिक जनसंख्या वाले देशो को भी देखा। हमे उमीद है की इस आर्टिकल की सहायता से आपको vishv ki jansankhya kitni hai अच्छे से समझ में आ गया होगा। अगर आपके मन में कोई सवाल हो तो आप हमे नीचे कमेंट में पुछ सकते है और इस पोस्ट को आप अपने दोस्तो के साथ शेयर जरुर करे।

इन्हें भी पढ़ें:- 


0 Response to "पूरे विश्व की जनसंख्या कितनी है? vishv ki jansankhya kitni hai"

Post a Comment